गरियाबंद : कलेक्टर, एएसपी सहित जिला अधिकारियों ने गेंड़ी, तुवेलंगरची, भौंरा में आजमाया हाथ, देखिये वीडियो

राजिम पुन्नी मेला में देखने मिला अनोखा नजारा

फारूक मेमन

राजिम : माघी पुन्नी मेला में छत्तीसगढ़ी लोक खेल ने ऐसा जादू किया है कि बच्चे से लेकर बड़े तक छत्तीसगढ़ी खेल में हाथ आजमाने से नहीं चुक रहे है। वे राजिम पुन्नी मेला के मुख्यमंच के समीप छत्तीसगढ़ी लोक खेल के मंच में आयोजित खेलों में उत्साहपूर्वक भाग ले रहे है। आज शाम एक अनोखा नजारा देखने को मिला जब जिले के मुखिया श्याम धावड़े, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुखनंदन राठौर, एसडीएम जी.डी. वाहिले और जिले के आला अधिकारियों ने गेंड़ी चढ़कर सबको अचंभित कर दिया।

अधिकारीगण यहीं नहीं रूके बल्कि तुवेलंगरची को टीम के साथ खेलकर सबकों हतप्रभ कर दिया। अधिकारियों के इस छत्तीसगढ़ी विलुप्त खेलों के प्रति सम्मान और रूचि को देखकर दर्षक भी वाह वाह करने लगे और कलेक्टर की प्रशंसा खुले दिल से करने लगे।

मंच में कभी कोई गेड़ी चढ़ रहे है तो भौंरे की भन आवाज खासा प्रभावित कर रही है। आज अपरान्ह 4 बजे गरियाबंद जिले के कलेक्टर धावड़े और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुखनंदन राठौर ने गिल्ली एवं भौंरा खेल कर लोगों का उत्साह बढ़ाया। हाथ में भौंरा को लेकर खूब देर तक चलाया तो उपस्थित जनसमूह एकटक उनकी हाथ की ओर ही देखते रहे। उन्होंने हाथ में डंडा लेकर गिल्ली को जैसे ही मारा गिल्ली डंडे से लगते ही दूर तक जा छिंटके। साथ ही आज पूर्व माध्यमिक शाला दमौवापारा के 60 बच्चे भी लोक खेल सीखने व जानने पहुंचे थे। छत्तीसगढ़ लोक खेल एसोसिऐशन रायपुर से 30 लोगों की टीम खेल के संबंध में जानकारी दे रहे है। लोक खेल में अठारह गोंटिया, पच्चीस गोंटिया, तिग्गा, गेंड़ी, गोंटा, भौंरा, बिल्लस, फल्ली, लंगड़ी आदि सीखा इन खेलों को जानकार बच्चें बहुत प्रफुल्लित दिख रहे थे।

देखिये वीडियो:-