छग भोजपुरी परिषद ने छत्तीसगढ़ी व भोजपुरी सगी बहनों को लाया एक मंच पर; खेसारीलाल के गीतों पर देर रात तक झूमे भिलाई के लोग

  • छत्तीसगढ़ भोजपुरी परिषद द्वारा किया गया सीएम भूपेश बघेल का सम्मान
  • लोगो की भीड़ देख गदगद हुए अतिथि और कलाकर
  • मुख्यमंत्री ने किया छग भोजपुरी परिषद के लिए जमीन देने की घोषणा
  • कड़कड़ाती ठंड में भी देर रात तक झूमते रहे दर्शक
  • भोजपुरी परिषद से हर साल ऐसे ही भव्य आयोजन करने की अपील किया लोगे ने

रमेश गुप्ता

भिलाई: शनिवार 8 फरवरी का दिन भिलाई सहित सम्पूर्ण छग के लिए एक इतिहास बन गया। इसकी भव्यता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इतनी कड़कड़ाती ठंड के बावजूद सभी वर्गो के लोगो ने देर रात तक कार्यक्रम का आनंद लिया और झूमते दिखे। मौका था छग भोजपुरी परिषद द्वारा छग के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सम्मान करने का। इस खास मौके को और रंगीन और भव्य बनाने के लिए छत्तीसगढ़ भोजपुरी परिषद् ने भोजपुरी सुपरस्टार खेसारीलाल यादव, सुभी शर्मा व स्थानीय कलाकार दिलीप षाड़ंगी को भी बुलाया गया था। खेसारीलाल यादव का जादू देर रात तक खुर्सीपार ही नहीं पूरी भिलाई के सिर चढ़कर बोला।
मुख्यमंत्री को किया गया सम्मानित

छठ पर्व पर सामान्य अवकाश घोषित करने के कारण शनिवार को छत्तीसगढ़ भोजपुरी परिषद् द्वारा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का सम्मान किया गया। कार्यक्रम के दौरान विशेष रूप से भिलाई नगर विधायक देवेन्द्र यादव, खाद्यमंत्री अमरजीत भगत, दुर्ग विधायक अरुण वोरा, पूर्व विधायक भजन सिंह निरंकारी सहित अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे। कार्यक्रम के दौरान सीएम भूपेश बघेल का शॉल, श्रीफल व स्मृतिचिन्ह देकर सम्मान किया गया।

छग में भोजपुरी समाज का अलग स्थान: सीएम

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भोजपुरी समाज का एक अहम स्थान है। प्रदेश में निवासरत लाखों यूपी व बिहार के लोगों की मंशा थी कि छठ पर्व पर शासकीय अवकाश हो। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही यह मांग पुरी की गई। पारंपरिक तीज त्योहारों में लोगों की खुशी का ध्यान रखना सरकार का पहला कर्तव्य हैऔर छत्तीसगढ़ सरकार इसका पूरा प्रयास कर रही है। सीएम भूपेश बघेल ने कहा छत्तीसगढ़ भोजपुरी परिषद् ने खुर्सीपार क्षेत्र में ऐसा भव्य आयोजन कर सराहनीय कार्य किया है। इसके लिए परिषद् के सभी पदाधिकारी बधाई के पात्र हैं। परिषद के अध्यक्ष बैठा द्वारा भोजपुरी परिषद के लिए जमीन की मांग की गई है जिसे जल्द पूरा किया जाएगा। ट्रांसपोर्ट नगर की समस्याओं को लेकर जो मांग की गई है वो भी अब अंतिम चरण में है फाइल वित्त विभाग में आ गई है इस मांग को भी हम जल्द पूरा कर देंगे।

भीड़ देख गदगद हुए अतिथि और कलाकार

खुर्सीपार के इस मैदान में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में दर्शक मौजूद थे। जिसमे बच्चे,बड़े,बूढ़े सभी वर्ग के पुरुष व महिलाएं मौजूद थी। कार्यक्रम स्थल पर लोगो की भीड़ देख अतिथि व कलाकार गदगद हो गए। मुख्यमंत्री, विधायक, खेसारीलाल व दिलीप षडंगी ने अपने उद्बोधन में खचाखड़ भीड़ की कई बार भूरी भूरी तारीफ की।

ठंड के बावजूद देर रात झूमते रहे दर्शक

भिलाई में पिछले पांच दिनों से मौसम का मिजाज बिगड़ा हुआ था जिसके कारण कार्यक्रम के दिन भी अल सुबह बारिश हुई थी और पांच दिनों से कोहरे के कारण ठंड में काफी इजाफा हुआ था। इतने कड़कड़ाती ठंड के बावजूद देर रात तक दर्शकों मौजूद रहे और कार्यक्रम का लुफ्त उठाया।

पुलिस व वालेंटियर्स को करनी पड़ी मशक्कत

कार्यक्रम के लिए उमड़े भीड़ को व्यवस्थित करने के लिए छग भोजपुरी परिषद के युवा विंग के वालेंटियर्स व पुलिस प्रशासन को भी बहुत मशक्कत करनी पड़ी। इनके सहयोग से कार्यक्रम शांतिपूर्ण तरीके से बिना किसी अव्यवस्था के संम्पन्न हुआ।

सुपरहिट गीतों की दी प्रस्तुति,झूमते रहे दर्शक

कार्यक्रम का खास आकर्षण रहे भोजपुरी गायक व सुपर स्टार खेसारीलाल यादव ने एक से बढ़कर एक गीतों की प्रस्तुति देकर उपस्थित लोगों में जोश भर दिया। स्टेज पर खेसारी की परफारर्मेंस देखकर दर्शक झूमने पर मजबूर हो गए। वहीं छत्तीसगढ़ के सांस्कृतिक कलाकार दिलीप षडंगी ने भजनों की शानदार प्रस्तुति दी। इस दौरान चलित नाटक का भी मंचन हुआ जिसमें कलाकारों ने जीवंत प्रस्तुति दी।

छग भोजपुरी परिषद द्वारा सीएम को दिया गया प्रतिवेदन

भूपेश बघेल जी, मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन
आपको समस्त भोजपुरिया परिवार के तरफ से बहुत-बहुत धन्यवाद आपने वर्षों पुरानी मांग छठ पर्व पर अवकाश को चंद मिनटों में कर दिखाए इसके लिए हमारा समस्त भोजपुरी परिषद के सदस्य हमेशा आपके आभारी रहेंगे हम सभी छठ माता से प्रार्थना करते है कि आप दुनिया के सारि उचाई को पार करें, आपके इस निर्णय से सिर्फ छत्तीसगढ़ में ही नहीं देश के कोने कोने के अलावा पूरी दुनिया में जहां-जहां भोजपुरिया भाई हैं उनके दिलों में आपने जगह बनाई है। धन्यवाद देता हूं भिलाई विधानसभा के लाडले विधायक व महापौर हमारे छोटे भाई देवेंद्र यादव को जिन्होंने छठ पर्व पर अवकाश के लिए तहे दिल से प्रयास की है महोदय जी छत्तीसगढ़ भोजपुरी परिषद के सदस्य बहुत सारे रचनात्मक व सामाजिक कार्य हमेशा करते रहा है अपने क्षेत्र के संस्कृति के अलावा छत्तीसगढ़ की संस्कृति को भी अपने संस्कृति से अलग नहीं समझता यहां के खान-पान रहन-सहन पहनावा बातचीत सब कुछ मेल खाता है इसीलिए यहां के बड़े-बड़े जनप्रतिनिधियों ने सगी बहनों का उपाधि भाषाओं को मेल को देखते हुए बार बार की है हमारी जाति हमारी बिरादरी हमारे पूजा करने की तौर तरीके यहां के खानपान हमारे क्षेत्र से मिलता जुलता है इसीलिए हमें महसूस नहीं होता कि हम छत्तीसगढ़ की संस्कृति से अलग है हम छत्तीसगढ़ के विकास में अपनी मेहनत के बल पर सभी समाजों को जोड़ने का काम बरसों से कर रहे हैं हम आभारी हैं देश के कांग्रेस सरकार का जिन्होंने भोजपुरी समाज की समस्याओं को निराकरण हमेशा करते रहा है जैसे केंद्र सरकार द्वारा सारनाथ एक्सप्रेस को गोंदिया से चलाने का निर्णय कई बार लिया गया ,भोजपुरी परिषद अपनी प्रयास के बल पर यथावत दुर्ग से चलाने का संघर्ष में सफल रहा तथा एक नई ट्रेन की मांग केंद्र में बैठे कांग्रेस की सरकार से अरूण बोरा के माध्यम से मोतिलाल बोरा से की गई जो रातो रात गोंदिया बरौनी के नाम से नई ट्रेन चली ।हम कांग्रेस सरकार के आभारी है जिन्होंने भोजपुरियों का हमेसा मान सम्मान दिया है ,यह भोजपुरी परिषद की मेहनत की वजह से संभव हो पाया, महोदय जी विगत कई वर्षों से भोजपुरी परिषद भवन की कमी महसूस कर रहा है ताकि हम सभी समाज हित में और भी बढ़-चढ़कर के सेवा कर सकें इसके लिए हम चाहते हैं कि आप भिलाई में कम से कम 3 एकड़ भूमि पर आवंटित करने का कृपा करें ताकि अनाथ व गरीब बच्चों को शिक्षा ,चिकित्सा एवं गरीब बच्चों का शादी व्याह कर सके। जमीन व भवन के लिए हमारी परिषद हमारे लाडले विधायक देवेंद्र यादव जी से निवेदन किया है तथा हम सभी को आस्वस्थ भी किए है ,लेकिन मुख्यमंत्री जी आप खुद ही इस मंच पर विराजमान है हम सभी चाहते हैं कि आप खुद इस मंच से घोषणा करने की कृपा करें ,इस पुनीत कार्य के लिए हम सभी आपका हमेशा आभारी रहेंगे । भोजपुरी परिषद के हमारे सभी सदस्य जिन्होंने तन से मन व धन से हमेशा परिषद को मजबूती प्रदान किया है जिसमें सबसे पहले हमारे संगठन के प्रमुख संरक्षक शिक्षाविद संजय ओझा, निशीकांत शर्मा, ठाकुर मनोज कुमार सिंह, वीरेंद्र यादव, सुभाष शर्मा, सुभाष साव, संतोष साह, मृत्युंजय भगत, सुरेंद्र प्रसाद सोनी, बीपी सिंह, गणेश शुक्ला, घनश्याम सिंह, नंदकिशोर सिंह, बृजेंद्र राय, प्रेम प्रकाश मिश्रा, आदित्य सिंह, शरद मिश्रा, मदनमोहन त्रिपाठी, के के झा आदि है।