मैराथन के जरिये अबूझमाड़ को मिलेगी नई पहचान, कलेक्टर ने की ‘पीस हाफ मैराथन’ की तैयारियों की समीक्षा

नारायणपुर। अबूझमाड़ के नाम से देश भर में पहचाने जाने वाला अब सारी बेड़ियां तोड़कर विकास की दौड़ में शामिल होने जा रहा है। यहां पर अब राज्य स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर के खेलकूदों का आयोजन होने लगा है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी ईलाके के विकास की गूंज भी सुनाई देने लगी है। खेलकूद की गतिविधियों को आगे बढ़ाते हुए दूसरी बार माड़ हाफ मैराथन का आयोजन 8 फरवरी 2020 को होगा।

कलेक्टर पी.एस.एल्मा ने पुलिस प्रशासन, जिला प्रशासन के अधिकारियों, नवनिर्वाचित पार्षदों, गणमान्य नागरिकों, मीडिया प्रतिनिधियों की बैठक लेकर तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिन्हें जो जिम्मेदारियों सौंपी गयी है। वे अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन पूरी जवाबदेही के साथ करें। एल्मा ने कहा कि इस दौड़ में जिले वासियों की पूरी भागीदारी होनी चाहिए तभी इस मैराथन का उद्देश्य पूरा होगा। उन्होंने कहा कि माड़ क्षेत्र के हर गांव से अधिक से अधिक युवाओं की भागीदारी होनी चाहिए। क्योंकि यह दौड़ राष्ट्रीय स्तर की है। इसमें पुरस्कार भी इसी हिसाब से दिये जा रहे हैं। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि आप सभी लोग नियमित बैठक कर आयोजन की पूरी रूपरेखा बनायें। कलेक्टर ने लोगों से सुझाव और विचार भी मांगे।

बैठक में एसपी मोहित गर्ग ने अभी तक की गयी तैयारियों की जानकारी देते हुए बताया कि छत्तीसगढ़ समेत अन्य राज्यों के लगभग 4,000 धावकों ने ऑनलाईन पंजीयन कराया है। उन्होंने बताया कि आमंत्रण पत्र, मैडल, फ्लैक्स, स्टीकर, मैराथन सांग आदि की तैयारी अंतिम चरण में है। गर्ग बताया कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री सहित अन्य अतिथियों को न्यौता देने नारायणपुर से प्रतिनिधि मंडल जायेगा। वहीं राष्ट्रीय स्तर धावक और छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों, नेशनल मीडिया सहित राज्य स्तरीय मीडिया को भी आमंत्रित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रचार-प्रसार के लिए सोशल मीडिया के अलावा प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया के साथ ही होर्डिंग और स्टीकर के माध्यम से भी प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एफएम रेडियो और सिनेमा के जरिये भी प्रचार-प्रसार पर बातचीत चल रही है।

बैठक में आमंत्रित पुलिस अधीक्षक महासमुंद जितेन्द्र शुक्ल उपस्थित हुए। उन्होंने भी मैराथन के बेहतर आयोजन के संबंध में अपनी महत्वपूर्ण सुझाव और अनुभव दिये। श्री शुक्ल पहली मैराथन दौड़ में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर चुके हैं। पहली अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन की शुरूआत करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। बैठक में मैराथन दौड़ बासिंग तक ही कराने की सहमति बनी। पहले यह सुझाव था कि बासिंग की जगह कुरूषनार से ही वापस नारायणपुर मैराथन दौड़ करायी जाये। रक्षित निरीक्षक दीपक साव ने प्रोजेक्टर के माध्यम से मैराथन की तैयारियों का प्रस्तुतिकरण दिया। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत प्रेम कुमार पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री जयंत वैष्णव, एसडीएम दिनेश कुमार नाग के अलावा जनप्रतिनिधी, मीडिया प्रतिनिधी, गणमान्य नागरिक मौजूद थे।