‘शरजील इमाम’ की तलाश तेज, मुंबई-पटना-दिल्ली में छापेमारी, भाई को लिया हिरासत में – जानिए कौन है ये शख्स

नई दिल्ली: असम को भारत से अलग करने का विवादित वीडियो सामने आने के बाद जेएनयू छात्र शरजील इमाम को पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। यूपी, बिहार, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश समेत कई राज्यों में केस दर्ज होने के बाद अब शरजील की गिरफ्तारी के लिए दिल्ली पुलिस भी छापेमारी कर रही है। इस बीच शरजील के भाई को बिहार पुलिस ने हिरासत में लिया है।

पुलिस ने शरजील इमाम के घर पर भी मारा छापा

दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन के कोऑर्डिनेटर शरजील पर पुलिस का शिकंजा कसता जा रहा है। इस बीच जहानाबाद पुलिस ने शरजील इमाम के घर पर भी छापा मारा। पुलिस ने उसके भाई को हिरासत में लिया है। इससे पहले दिल्ली पुलिस ने फरार शरजील की तलाश में मुंबई, पटना और दिल्ली में छापे मारे।

शरजील के खिलाफ दर्ज किया गया है मामला

जहानाबाद के पुलिस सूत्रों ने सोमवार को बताया कि केंद्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टीम ने शरजील की गिरफ्तारी के लिए जहानाबाद के काको स्थित पैतृक आवास पर रविवार को छापेमारी की। इस दौरान घर के सदस्यों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। हालांकि, शरजील वहां नहीं मिला था। भड़काऊ भाषण देने के आरोप में शरजील के खिलाफ असम, दिल्ली, यूपी, बिहार, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में मामला दर्ज किया गया है।

जानें असम पर शरजील ने क्या दिया था बयान

शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन के दौरान शरजील इमाम के भाषण का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में शरजील इमाम कहता है, ‘हमारे पास संगठित लोग हों तो हम असम से हिंदुस्तान को हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं। परमानेंटली नहीं तो एक-दो महीने के लिए असम को हिंदुस्तान से कट कर ही सकते हैं। रेलवे ट्रैक पर इतना मलबा डालो कि उनको एक महीना हटाने में लगेगा…जाना हो तो जाएं एयरफोर्स से। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है।’

चोर-उचक्का नहीं है शरजील- मां

इस बीच शरजील की मां अफशां परवीन ने आरोप लगाया है कि उसके बेटे के बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया गया है। उन्होंने दावा किया कि उनका बेटा जैसा दिखाया जा रहा है, वैसा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘मेरे बेटे को फंसाया जा रहा है। वह केवल एनआरसी का विरोध कर रहा था।’ परवीन ने कहा कि कई दिनों से उनकी अपने बेटे से बातचीत नहीं हो रही है लेकिन वह कोई चोर-उचक्का नहीं है कि वह फरार है, वह जल्द ही सामने आएगा।

शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद का रहने वाला है. शरजील इमाम ने IIT बॉम्बे से कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. कहा जाता है कि शरजील ने कुछ दिनों तक वहां पढ़ाया भी. ग्रेजुएशन के बाद दो साल तक उसने बेंगलुरु में एक सॉफ्टवेयर कंपनी में डेवेलपर के तौर पर काम किया.  2013 में जेएनयू में आधुनिक इतिहास में मास्टर्स करने के लिए एडमिशन लिया. यहां से उसने Mphil और फिर PHD भी किया.

कौन है शरजील इमाम जिसने कहा असम को भारत से अलग कर देंगे?

शरजील इमाम (फोटो सौ. फेसबुक प्रोफाइल)
  • शरजील आइसा में दो साल से अधिक रहा और एक साल के लिए इसकी कार्यकारिणी का सदस्य भी रहा. इसके अलावा उसने आइसा के प्रत्याशी के तौर पर काउंसलर के पद के लिए 2015 का जेएनयूएसयू चुनाव लड़ा.
  • कहा जा रहा है कि शरजील शाहीन बाग में हो रहे धरना प्रदर्शन का मुख्य आयोजक था. वो सोशल मीडिया पर लोगों को लगातार इस धरने में शामिल होने की अपील करता था. एक फेसबुक पोस्ट में शरजील ने लिखा है, ‘शाहीन बाग का मॉडल चक्का जाम का है, बाक़ी सब सेकेंडरी हैं, चक्का जाम और धरने में फ़र्क समझिए, हर शहर में धरने कीजिए, उसमे लोगों को चक्का जाम के बारे में बताइए, और फिर तैयारी करके हाईवेज पर बैठ जाइए.’
  • दो जनवरी को एक फेसबुक पोस्ट में शरजील ने लिखा था कि वो हॉन्ग-कॉन्ग की तर्ज पर भीड़ को इकट्ठा करना चाहता है. कहा जा रहा है कि इसको लेकर उसने तैयारियां भी शुरू कर दी थी.
  • पिछले साल राम मंदिर पर फैसला आने के बाद शरजील इमाम ने सोशल मीडिया पर Justice Denied नाम से एक कैंपन भी चलाया. इस दौरान वो कई जगह भीड़ को ये बता रहा था कि बाबरी मस्जिद मामले में उनके समुदाय के साथ न्याय नहीं हुआ.>>आरोप है कि पिछले कुछ समय से शरजील नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा था. दावा है कि शरजील CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान जेएनयू, जामिया और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भी दिखा.