CCD के मालिक और कर्नाटक के पूर्व सीएम एस एम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ का शव मिला, सोमवार से थे लापता

मंगलुरु
सोमवार से लापता Cafe Coffee Day (सीसीडी) के मालिक वीजी सिद्धार्थ का शव होयगे बाजार के नजदीक मुलिहितलु द्वीप के पास से मिला है। हालांकि पुलिस का कहना है कि शव की परिजनों से पहचान होनी बाकी है। बता दें कि सीसीडी के फाउंडर सिद्धार्थ सोमवार से लापता थे और उनके आत्महत्या करने की आशंका जताई जा रही थी। सिद्धार्थ कर्नाटक के पूर्व सीएम एस एम कृष्णा के दामाद थे। राज्य सरकार उनकी तलाश के लिए बड़े पैमाने पर सर्च अभियान चला रही थी। लापता होने के पहले सिद्धार्थ ने अपने आखिरी खत में कई समस्याओं का जिक्र किया था। 

पुलिस को मिला सिद्धार्थ का शव

मंगलुरु पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने बताया कि उन्हें आज सुबह ही एक शव मिला है। अभी इसकी पहचान होना बाकी है। पुलिस ने वीजी सिद्धार्थ के परिजनों को इसकी सूचना दे दी है। 

ड्राइवर ने दी थी सिद्धार्थ के लापता होने की जानकारी

इससे पहले सिद्धार्थ (60) के कार चालक बसवराज पाटिल ने मेंगलुरु में एक पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया कि उनके मालिक पुल से लापता हो गए थे, जहां वह कार से उतरे थे और कुछ देर टहलना चाहते थे। चालक द्वारा दर्ज मामले के अनुसार,‘सिद्धार्थ ने नेत्रावती नदी के पुल पर कार रुकवाई और कार से उतर गए। सिद्धार्थ ने कहा कि वह थोड़ी देर सैर करना चाहते हैं।’ ड्राइवर ने बताया कि सिद्धार्थ ने उनसे पुल के दूसरे छोर पर इंतजार करने को कहा। लगभग एक घंटे बाद भी वह नहीं लौटे तो ड्राइवर से परिवार को इसकी सूचना दी। 

सामने आया था वीजी सिद्धार्थ का पत्र


वीजी सिद्धार्थ के लापता होने के बाद उनका एक पत्र सामने आया था। तीन दिन पहले लिखे गए इस खत में सिद्धार्थ ने अपनी परेशानियों का जिक्र किया है। पत्र में कंपनी को हो रहे नुकसान और भारी कर्ज की बात की गई थी। इसके अलावा आयकर विभाग के एक पूर्व डीजी के दबाव की भी चर्चा थी। 27 जुलाई को लिखे गए इस खत में सिद्धार्थ ने कंपनी में सभी मुश्किलों का जिम्मेदार खुद को बताया था। उन्होंने बोर्ड ऑफ डायरेक्टर और सीसीडी (Cafe Coffee Day) परिवार को संबोधित करते हुए लिखा था कि 37 साल बाद वह अपनी तमाम कोशिशों के बाद भी एक सही और फायदे वाला बिजनस मॉडल नहीं तैयार कर सके हैं।