CHHATTISGARH’S PROUD | महाराष्ट्र में कोंडागांव के बेटे और दक्षिण कोरिया में किरंदुल की बेटी ने बढ़ाया हमारा मान

दंतेवाड़ा / कोंडागांव :

दक्षिण कोरिया के सिओल शहर में आयोजित हो रहे अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन कार्यक्रम में किरंदुल की पुष्पलता साहू हिस्सा ले रही हैं। दंतेवाड़ा की बेटी इस कार्यक्रम में दुनिया भर के 20 देशों से आए लोगों के बीच भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हैं।

कार्यक्रम 21 जुलाई से शुरू हुआ है, जो 27 जुलाई तक चलेगा। सिओल, दक्षिण कोरिया में भारत की तरफ से पुष्पलता साहू को विभिन्न मुद्दों पर भारत का प्रतिनिधित्व करना है। कार्यक्रम में त्रिपक्षीय वार्ता, सामाजिक संवाद व सामूहिक सौदेबाजी के इन विषयों व इनके संदर्भ में भारत से संबंधित अपने विचारों को व्यक्त कर रही हैं। 7 दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में पुष्पलता साहू ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर दंतेवाड़ा ही नहीं बल्कि बस्तर का मान बढ़ाया है। पुष्पलता दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल शहर में रहने वाले एनएमडीसी कर्मचारी ए.डी. नाग की बेटी है।

पिता के सक्रिय राजनीति में होने की वजह से बचपन से ही इनके अंदर प्रतिनिधित्व करने की क्षमता रही है। अपने स्थानीय लोगों के प्रति संवेदना व उनके साथ के लिए सदैव अग्रसर रही है। किरंदुल के कॉलेज से अपनी एमएससी की पढ़ाई पूरी करने के बाद इनकी नौकरी भी एनएमडीसी परियोजना में लग गई। पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए इन्होंने भी मजदूर संगठन राजनीति में खुद को सक्रिय रखा। पुष्पलता साहू एनएमडीसी परियोजना में कार्यरत है।

कोंडागांव जिले के बनियागांव निवासी धरमू नेताम ने 5 हजार धावकों को पछाड़ पहला स्थान प्राप्त किया :

नवी मुंबई दिवस के मौके पर 21 जुलाई को आयोजित मानसून रन सीजन 2 में कोंडागांव जिले के बनियागांव निवासी धरमू नेताम ने 5 हजार धावकों को पछाड़ पहला स्थान प्राप्त किया। 35 से 49 उम्र की हुई इस प्रतियोगिता में धरमू ने 10 किमी की मैराथन दौड़ को पूरा करने में 31 मिनट का समय लिया था। पेशे से राजमिस्त्री धरमू की इस उपलब्धि को लेकर पूरे गांव के लोग ही नहीं जिले में खुशी की लहर है।

इस प्रतियोगिता में कोंडागांव के ही रहने वाले हीरो मोटर साइकिल शो रूम के संचालक 50 वर्षीय संतोष साहू ने 10 किलोमीटर दौड़ में दूसरा स्थान प्राप्त किया तो इसी जिले के ही चमई निवासी फूलधर नेताम ने 18 से 35 वर्ष उम्र की 21 किलोमीटर दौड़ में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। कलेक्टर ने तीनों विजयी प्रतिभागियों को बधाई दी है।

संतोष की कोशिश सफल :

जिले में प्रतिभाओं की कमी नहीं है गांव के होनहार युवकों को जरूरत है सही दिशा और मार्गदर्शन की। यह बात संतोष साहू ने कही। उन्होंने कहा कि धरमू और फूलधर नेताम दौड़ में रूचि रखते हैं। सालों से ये दोनों स्थानीय स्तर पर होने वाली प्रतियोगिता शामिल हो रहे थे और कई ईनाम भी जीते थे। दोनों राज्य या इसे बाहर होने वाली प्रतियोगिता में शामिल होना चाहते थे। उनकी इस इच्छा को पूरा करने के लिए इससे बढ़िया और कोई मौका नहीं था। दोनों ने प्रतियोगिता में अच्छा करने का वादा पूरा कर दिखाया।