RAJNANDGAON | छत्तीसगढ़ की बेटी ने किया नाम रौशन, विश्व जूनियर वेटलिफ्टिंग चैैंंपियनशिप में रजत पदक जीता, वर्ल्ड चैंपियनशिप में पदक जीतने वाली पहली वेटलिफ्ट

राजनांदगांवः प्रतिभा कभी भी परिस्थितियों का मोहताज नहीं होती है। प्रतिभा और लगन के बलबूते कमजोर से कमजोर व्यक्ति ठान ले तो असंभव को संभव कर सकता है। यह कारनामा राजनांदगांव के भोड़िया में रहने वाली ज्ञानेश्वरी यादव ने कर दिखाया है। ग्रीस के हेराक्लिओन में चल रहे विश्व जूनियर वेटलिफ्टिंग चौंपियनशिप में ज्ञानेश्वरी ने भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए 156 किग्रा उठाकर रजत पदक पर अपना कब्जा जमाया। ज्ञानेश्वरी छग की चौथी व पदक जितने वाली पहली खिलाड़ी है। ज्ञानेश्वरी के पिता दीपक यादव पेशे से इलेक्ट्रिशियन हैं।

ट्रेनिंग से लेकर वर्ल्ड चौंपियनशिप तक का सफर- ज्ञानेश्वरी यादव छत्तीसगढ़ की पहली वेटलिफ्टर है, जिसने वर्ल्ड चौंपियनशिप में पदक जीता है। वर्ल्ड चौंपियनशिप में छत्तीसगढ़ के रुस्तम सारंग, अजयदीप सारंग, अनीता शिंदे, मधुसूदन जंघेल, केशव साहू जैसे तमाम खिलाड़ी भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं लेकिन पदक हासिल करने में नाकाम रहे हैं। ज्ञानेश्वरी यादव ने राजनांदगांव में ट्रेनिंग कर वर्ल्ड चौंपियनशिप तक का सफर तय किया है। राजनांदगांव की ज्ञानेश्वरी यादव ने 2018 से वेटलिफ्टिंग की शुरुआत की। स्कूल और नेशनल प्रतियोगिता से लेकर ऑल इंडिया विश्वविद्यालय टूर्नामेंट, राष्ट्रीय जूनियर वेटलिफ्टिंग, राष्ट्रीय यूथ प्रतियोगिता, राष्ट्रीय प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व कर कई पदक जीते हैं। वर्तमान में ज्ञानेश्वरी लखनऊ में ट्रेनिंग ले रहीं हैं और ओलंपिक की तैयारी कर रहीं हैं।

ये भी पढ़ें :-   RAJNANDGAON | यहां है पीरियड वाली झोपड़ी, मासिक धर्म आने पर 5 दिनों तक यहां रखी जाती हैं लड़कियां-महिलाएं, ये है वजह