Exit Poll: दिल्ली में किसकी बनेगी सरकार ? यहाँ पढ़ें विभिन्न मीडिया संस्थानों के अलग-अलग एग्जिट पोल

दिल्ली: विधानसभा चुनाव के लिए मतदान अब समाप्त हो चुके हैं। शनिवार को हुई वोटिंग में शाम छह बजे तक 54.65 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया है। दिल्ली में मुकाबला मुख्य रूप से सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के बीच माना जा रहा है। सभी पार्टियों ने चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। अब वोटिंग समाप्त होने के साथ ही परिणामों की झलक एग्जिट पोल में देखने को मिल रही है। विभिन्न मीडिया संस्थानों द्वारा अलग-अलग एग्जिट पोल जारी किए गए हैं जिसमें आम आदमी पार्टी एक बार फिर दिल्ली में सरकार बनाती दिखाई दे रही है। विभिन्न एग्जिट पोल्स में आप को 44 से लेकर 63 सीटें दी गई हैं।

अब तक आए ज्यादातर एग्जिट पोल ने साफ तौर पर आम आदमी पार्टी की सरकार बनने की बात कही है। जबकि भाजपा दूसरे नंबर की पार्टी रहेगी। वहीं एग्जिट पोल के आंकड़ों के अनुसार कांग्रेस को अधिकतम चार सीटों से संतोष करना पड़ेगा।

TIMES NOW – के एग्जिट पोल के मुताबिक, दिल्‍ली की 70 सीटों में से आम आदमी पार्टी को 44 सीटें मिल सकती हैं जबकि भाजपा को 26 सीटें मिलने का अनुमान है। जबकि कांग्रेस के खाते में एक भी सीटें नहीं आएंगी।

TV 9 भारतवर्ष -सिसेरो के एग्जिट पोल के मुताबिक, आम आदमी पार्टी 54 सीटें जीत सकती है जबकि भाजपा को 15 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है। वहीं कांग्रेस के खाते में 1 सीट आएगी।

रिपब्लिक TV के एग्जिट पोल की बात करें तो आम आदमी पार्टी के खाते में 48-61 सीटें जा सकती हैं वहीं भाजपा के खाते में 9-21 सीटें जाने की संभावना है। जबकि कांग्रेस के खाते में 0 से 1 सीट आने का अनुमान है।

ABP न्यूज -सीवोटर के एग्जिट पोल के अनुसार, आम आदमी पार्टी के खाते में 49 से 63 सीटें आने की संभावना है। जबकि भाजपा को 5 से 19 सीटें मिलेंगी। वहीं कांग्रेस को 0 से लेकर 4 सीटें तक मिल सकती हैं।

TIMES NOW

आप-44, भाजपा-26, कांग्रेस-0

News X – पोल्स स्टार्ट

आप-53-57 , भाजपा-11-17, कांग्रेस0-2

TV 9 भारतवर्ष

आप-54, भाजपा-15, कांग्रेस-1

रिपब्लिक TV

आप-48-61, भाजपा- 9-21, कांग्रेस-0-1

ABP न्यूज -सी वोटर

आप-49-63 , भाजपा-5-19, कांग्रेस-0-4

क्या केजरीवाल को मिलेगा एक और कार्यकाल?

साल 2015 में शानदार जीत मिलने के बाद दिल्ली के सीएम बने अरविंद केजरीवाल  एक और कार्यकाल हासिल करने के प्रयास में हैं। केजरीवाल के नेतृत्व में पार्टी ने 2015 के विधानसभा चुनाव में कुल 70 में 67 सीटों पर जीत हासिल की थी, और बाकी तीन सीटें भाजपा के हिस्सें में गई थीं। उस दौरान दिल्ली चुनाव में कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पाई थी, जबकि साल 1998 से लेकर 2013 तक कांग्रेस लगातार 15 साल दिल्ली की सत्ता में रह चुकी थी।

2015 और 2013 विधानसभा चुनाव में ये थी स्थिति

साल 2015 के विधानसभा चुनाव में आप  को 54.3 फीसदी वोट मिले थे। भाजपा 32.3 फीसदी वोट पाकर दूसरे स्थान पर रही थी और कांग्रेस को केवल 9.7 प्रतिशत वोट मिल पाए थे। इससे सिर्फ दो साल पहले, साल 2013 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने 28 सीटें जीतकर आठ सीटें जीतने वाली कांग्रेस के बिना शर्त समर्थन से सरकार बनाई थी, मगर वह अधिक समय तक नहीं चल पाई थी। साल 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 32 सीटों पर जीत मिली थी, और वह बहुमत के आंकड़े से 4 सीट कम रह गई थी।