JASHPUR | हाईस्कूल के प्राचार्य और लिपिक निलंबित, संयुक्त संचालक ने की बड़ी कार्रवाई, ये था मामला

जशपुर:  जशपुर जिले के बगीचा ब्लॉक में स्थित हाईस्कूल बीमड़ा के लिपिक को निलंबित कर दिया गया है। तो वही प्राचार्य को भी हटा दिया गया है। वही 6 व्याख्याताओं को भी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार जशपुर जिले के बगीचा विकासखंड के बीमड़ा हायर सेकेंडरी स्कूल के सहायक ग्रेड 2 अंजनी खरे के खिलाफ स्कूल के ही एक शिक्षक ने प्रताड़ना की शिकायत बगीचा थाने में दी थी। थाने से कोई बुलावा नही आने के बावजूद भी अंजनी खरे के द्वारा कल 14 सितंबर को स्कूल के अध्ययन के टाइम में स्कूल के व्याख्यताओं को अपने पक्ष में बयान दिलवाने के लिए थाने ले जाया गया था। जिसके चलते स्कूल की पढ़ाई ठप्प पड़ गई थी।

जिससे नाराज विद्यार्थियों ने स्कूल में ही धरना देकर नारेबाजी शुरू कर दी थी। सूचना पर स्कूल शिक्षा विभाग के अफसर स्कूल पहुँचे थे। तब विद्यार्थियों ने बताया कि स्कूल में पदस्थ सहायक ग्रेड 2 अंजनी कुमार खरे के द्वारा आये दिन शिक्षकों व विद्यार्थियों को प्रताड़ित किया जाता है। इसके साथ ही शैक्षणिक कार्यों को भी प्रभावित लिपिक द्वारा किया जाता है। विद्यार्थियों ने बताया कि छात्र- छात्राओं के अपमान के अलावा राष्ट्रगान के समय कमरें में बैठे रह कर लिपिक ,प्राचार्य व कुछ शिक्षक राष्ट्रगान का भी अपमान करते हैं। विद्यार्थी लगातार प्राचार्य व लिपिक को हटाने की मांग कर धरना दे रहे थे। स्कूल पहुँचे अधिकारियों की समझाइश के बाद किसी तरह छात्र शांत हुए थे।

इसके बाद मामले का संज्ञान लेते हुए संयुक्त संचालक शिक्षा अंबिकापुर संभाग हेमंत उपाध्याय ने स्कूल के प्राचार्य थॉमस ख़लको को हटा कर सुधीर बरला को प्रभार सौप दिया है। सहायक ग्रेड-2 अंजनी कुमार खरे को बिना अनुमति स्कूल टाइमिंग शिक्षकों व स्कूल स्टाफ को थाने ले जाने, खराब व्यवहार व छात्रों को प्रताड़ित करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। साथ ही 6 व्याख्याता एलबी जिनमें अजयकांत गुप्ता, नेहा सिंह, रश्मि मिश्रा, अंजलि टोप्पो, माधुरी सलूजा, प्रभा तिर्की को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।

मामले में सँयुक्त संचालक हेमंत उपाध्याय ने बताया कि स्कूल के लिपिक के खिलाफ बिना अनुमति स्कूल के समय में स्टाफ़ को थाने ले जाने व अनुशासनहीनता व छात्रों से दुर्व्यवहार की शिकायत मिली थी। जिसके चलते उन्हें निलंबित किया गया है। स्कूल में नियंत्रण नही होने के कारण प्राचार्य का भी पदभार छीना गया है और 6 व्याख्याताओं को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।