इमरान की घनघोर बेइज्जती की थी सउदी प्रिंस ने, प्लेन वापस बुलाकर पीएम को कर दिया था ‘पैदल’

इस्‍लामाबाद: पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री रहे इमरान खान संप्रभुता का हवाला देकर अमेरिका पर उनकी सरकार को गिराने की साजिश करने का आरोप लगा रहे हैं। इमरान खान लगातार अमेरिकी साजिश के खिलाफ जनता से मदद मांग रहे हैं। इस बीच पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री के पूर्व प्रवक्‍ता ने खुलासा किया है कि तुर्की और मलेशिया के साथ दोस्‍ती बढ़ा रहे इमरान खान की सऊदी अरब ने घनघोर बेइज्‍जती की थी। इमरान खान के प्रवक्‍ता रहे नदीम अफजल चान ने बताया कि सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान ने पाकिस्‍तानी पीएम को अमेरिका दौरे के दौरान दिया प्‍लेन टोरंटो से वापस बुला लिया था और इमरान खान ‘पैदल’ हो गए थे।

नदीम अफजल ने बताया कि जब सऊदी अरब के प्रिंस को ज‍ब इमरान खान के तुर्की के राष्‍ट्रपति एर्दोगान और मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्‍मद के साथ मिलकर एक नया चैनल बनाने की योजना का पता चला तो उन्‍होंने अपने प्राइवेट विमान को वापस बुला लिया था। इसके बाद इमरान खान को एक व्‍यवसायिक विमान से घर वापस लौटना पड़ा था। इमरान खान संयुक्‍त राष्‍ट्र आम सभा के 74वें सत्र को संबोधित करने के लिए न्‍यूयॉर्क गए हुए थे।

न्‍यूयॉर्क से वापस इस्‍लामाबाद लौट रहा था विमान
इमरान खान अमेरिका की यात्रा से पहले रियाद गए थे और वहां क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान के साथ बैठक की थी। नदीम ने बताया कि विमान में तकनीकी गड़बड़ी का हवाला दिया गया लेकिन हकीकत यह थी कि विमान न्‍यूयॉर्क से वापस इस्‍लामाबाद लौट रहा था और बीच रास्‍ते में ही टोरंटों में इमरान खान को सऊदी प्रिंस ने अपने आलीशान विमान से उतार दिया था। नदीम ने बताया कि यही नहीं क्‍वालालंपुर में बैठक को भी सऊदी अरब के दबाव में पाकिस्‍तान को रद करना पड़ था जबकि उसे इमरान खान के कहने पर ही आयोजित किया गया था।

इमरान ने अपनी न्‍यूयॉर्क यात्रा के दौरान तुर्की और मलेशिया के साथ मिलकर यह फैसला किया था कि तीनों देश मिलकर बीबीसी की तरह से अंग्रेजी का चैनल लॉन्‍च करेंगे और मुस्लिमों के मुद्दे को उजागर करेंगे और पश्चिमी देशों में इस्‍लामोफोबिया से मुकाबला करेंगे। सऊदी प्रिंस को यह रास नहीं आया कि उनके टुकड़ों पर पलने वाला पाकिस्‍तान तुर्की और मलेशिया के साथ मिलकर इस्‍लाम‍िक मुद्दों को उठाए। वह भी तब जब सऊदी अरब खुद को मुस्लिमों का नेता मानता है।