RAIPUR | पति के साथ अवैध संबंध के शक के चलते बहन की हत्या, पत्नी ने प्लान बनाकर वारदात को ऐसे दिया अंजाम

रायपुर: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर पुलिस ने अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाते हुए मृतक लड़की की बड़ी बहन समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है।  एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने इस पूरे मामले का खुलासा किया है। 29 सितंबर को राजधानी की खम्हारडीह पुलिस के पास सूचना मिली थी कि जब्बार नाले के नीचे एक महिला का शव पड़ा हुआ है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर छानबीन शुरू की। पहले तो पुलिस को भी यह मामला समझ से अलग लग रहा था, लेकिन जैसे-जैसे पुलिस मामले के तह में गई उस पर से धीरे-धीरे पर्दा उठने लगा। 

 प्राप्त जानकारी के मुताबिक, खम्हारडीह पुलिस को रायपुर के सिविल लाइन में एक युवती के गुम होने की रिपोर्ट दर्ज होने की सूचना मिली। युवती का नाम संध्या सार्वा था। थाने में युवती की तस्वीर भी दी गई थी। युवती की गुमशुदगी की शिकायत बहन सरिता ने की थी। खम्हारडीह पुलिस ने पंडरी इलाके में रहने वाली सरिता दीप से पूछताछ शुरू की। जिसपर सरिता ने कहा कि संध्या 22 सितंबर की रात अपने घर से निकली थी, लेकिन वापस लौटी ही नहीं। पुलिस को सरिता की बात पर शक हुई। पुलिस ने उसके पति लक्ष्मण दीप के साथ पूछताछ शुरू की।

सख्ती से पूछताछ में आरोपियों ने गुनाह कबूल किया
पुलिस ने जब सरिता के पति को संध्या की लाश दिखाई तब उसने पहचानने से इनकार कर दिया और कहा कि यह लाश संध्या की नहीं है। वहीं सरिता ने संध्या की लाश होने का संकेत दिया। यहीं से पुलिस को दोनों परशंका बढ़ने लगी। दोनों के ही बयान अलग-अलग लग रहे थे। मामले में कई तकनीकी जांच करने के बाद लक्ष्मण दीप और सरिता से कड़ाई से पूछताछ की गई जिसमें वे बार-बार अपना बयान बदल रहे थे, लेकिन कड़ाई से पूछने पर वे टूट गए और उन्होंने बताया कि हत्या उन्होंने ने ही की।

संध्या के घर पर रहते थे पति-पत्नी
दरअसल सरिता और लक्ष्मण दोनों संध्या के ही घर पर रह रहे थे और लक्ष्मण दीप के साथ संध्या के अवैध संबंध थे। इस बात की जानकारी लक्ष्मण की पत्नि सरिता को भी थी। इसको लेकर आए दिन विवाद होता रहता था। फिर सरिता ने पति के साथ मिलकर संध्या को खत्म करने का प्लान तैयार किया। पति लक्षम्ण ने अपने दो दोस्तों को घर बुलाकर साली संध्या की हत्या की और  जब्बार नाले के नीचे शव फेंक दिया। इतना ही नहीं आरोपियों ने खारून नदी में मृतक का मोबाइल फोन भी फेंक दिया।