RAIPUR | सरकार ने कार्यकाल खत्म होने से पहले ही पद से हटाया, हाईकोर्ट के आदेश के बाद ज्वाइन करने पहुंचे तो ताला लटका मिला, जानिए क्या है माजरा

रायपुर: पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष सियाराम साहू को सरकार ने कार्यकाल खत्म होने के पहले ही पद से हटा दिया था। जब हाईकोर्ट के निर्देश के बाद वह दोबारा कार्यभार संभालने पहुंचे तो चैम्बर में ताला लटका मिला। जिससे विवाद की स्थिति बन गयी।

आपको बता दें कि 2018 में रमन सरकार ने सियाराम साहू को पिछड़ा वर्ग आयोग का अध्यक्ष बनाया था। उनकी नियुक्ति तीन साल के लिए हुई थी। उनका कार्यकाल अगस्त 2021 में खत्म होने वाला था पर सरकार ने उन्हंे कार्यकाल खत्म होने के पहले ही पद से हटाते हुए थानेश्वर साहू को आयोग का अध्यक्ष बना दिया।

जिसके बाद सियाराम साहू ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की। हाईकोर्ट ने सियाराम साहू के पक्ष मंे फैसला सुनाया और थानेश्वर साहू की नियुक्ति को निरस्त कर दिया। जिसके बाद सियाराम साहू जब दोबारा रायपुर स्थित पिछड़ा वर्ग आयोग के दफ्तर पहुंचे तो चैम्बर मंे ताला लटका हुआ मिला। नेमप्लेट में भी नाम नहीं बदला गया था। कर्मचारियों ने बताया कि थानेश्वर साहू मुंगेली है इसलिए ताला नहीं खुल सकता।

विवाद को बढ़ता देेख सियाराम साहू के लिए अलग कमरे का इंतजाम किया गया। टेबल-कुर्सी और अन्य चीजें भी मंगवायी गयी। अधिकारियों ने बताया कि चाबी मंगवाकर ताला खोला जाएगा।

ये भी पढ़ें :-   DANTEWADA | फूड पाॅइजनिंग या कोरोना से हुई नक्सली नेता की मौत, एसपी ने कहा- कई बड़े नक्सली नेता हैं बीमार, मुश्किलों का सामना कर रहे हैं माओवादी