CRICKET | टी-20 वर्ल्ड कप से से इन 5 भारतीय खिलाड़ियों का बाहर रहना तय, अच्छे प्रदर्शन के बाद भी नहीं चुना गया

नई दिल्लीः टी20 वर्ल्ड कप 2022 का आयोजन अक्टूबर-नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में होना है। टीम इंडिया को 15 साल से टी20 वर्ल्ड कप की ट्रॉफी का इंतजार है। इसके लिए अगले हफ्ते टीम की घोषणा हो सकती है। कप्तान रोहित शर्मा ने एशिया कप के दौरान कहा था कि 90 से 95 प्रतिशत खिलाड़ी तय हैं। कुछ ही नामों को लेकर चयनकर्ताओं को फैसला करना है। भारत के लिए पिछले कुछ समय में कई खिलाड़ियों ने दमदार खेल दिखाया है, लेकिन इसके बाद भी कई ऐसे नाम है जो टी20 वर्ल्ड कप की टीम में जगह बनाते नहीं दिख रहे हैं। हम आपको 5 ऐसे ही खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे।

​रवि बिश्रोई (Ravi Bishnoi)

10 मैच में रवि बिश्नोई ने भारत के लिए टी20 में 16 विकेट लिए हैं। इसके बाद भी वह वर्ल्ड कप टीम में शायद ही चुने जाएं। पाकिस्तान के खिलाफ एशिया कप सुपर-4 में अच्छे प्रदर्शन के बाद भी उन्हें प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था। टीम के पास युजवेंद्र चहल के रूप में अनुभवी लेग स्पिनर है।

इशान किशन (Ishan Kishan)

युवा विकेटकीपर बल्लेबाज इशान किशन ने टी20 में लगातार भारत के लिए अच्छा खेल दिखाया है। इस साल उन्होंने 14 टी20 इंटरनेशनल मैच में 30 की औसत और 130 की स्ट्राइक रेट से 430 रन बनाए हैं। ऋषभ पंत और दिनेश कार्तिक के टीम में होने की वजह से उन्हें ऑस्ट्रेलिया जाने का मौका मिलता नहीं दिख रहा है।

दीपक चाहर (Deepak Chahar)

दीपक चाहर ने चोट से वापसी कर ली है लेकिन वह अपनी तय पुरानी लय में नहीं दिखे। जसप्रीत बुमराह और हर्षल पटेल भी फिट हो चुके हैं। ऐसे में चाहर की परेशानी और बढ़ गई है। टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट का सबसे बेस्ट स्पेल डालने का रिकॉर्ड उन्हीं के नाम है।

शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur)

शार्दुल ठाकुर ने अभी तक भारत के लिए 25 टी20 मैच खेले हैं। इसमें 181 की स्ट्राइक रेट और 23 की औसत से उन्होंने 69 रन बनाए। वह 33 बल्लेबाजों का भी शिकार कर चुके हैं। लेकिन फरवरी के बाद उन्हें भारत के लिए खेलने का मौका ही नहीं मिला। अपने आखिरी टी20 में भी उन्होंने दो विकेट झटके थे।

श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer)

श्रेयस अय्यर इस साल भारत के लिए सबसे सफल टी20 बल्लेबाजों में शामिल हैं। 14 पारियों में उनके नाम करीब 45 की औसत और 143 की स्ट्राइक रेट से 449 रन हैं। इसके बाद भी उन्हें एशिया कप टीम में जगह नहीं मिली थी। अब वर्ल्ड कप में खेलना भी मुश्किल है।