लापरवाही : राजधानी के गोयल अस्पताल में एक्सपायरी डेट वाला इंजेक्शन लगाने से युवती की मौत – तोड़फोड़ के बाद निजी अस्पताल के डॉक्टरों ने मरीज़ों का इलाज बंद करने का लिया फैसला ; पढ़िए विस्तार से

रायपुर :

राजधानी के समता कॉलोनी स्थित गोयल अस्पताल में युवती को एक्सपायरी डेट वाला इंजेक्शन लगाने से युवती की मौत का मामला सामने आया है. युवती बढ़ईपारा की रहने वाली थी. हल्का सर्दी बुखार की शिकायत के बाद परिजन गोयल अस्पताल लेकर गये थे. जहां इंजेक्शन लगाते ही युवती का शरीर पूरी तरह नीला पड़ गया. जिसके बाद थोड़ी देर में युवती की मौत हो गई.

युवती की मौत से खफा परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर हंगामा किया. अस्पताल के खिलाफ नारेबाजी करते हुए चिकित्सक पर गलत इंजेक्शन लगाने की बात कही. परिजनों का गुस्सा देख अस्पताल में अफरातफरी मच गई. युवती के परिजनों ने बताया कि युवती का लंबे समय से गोयल अस्पताल में इलाज चल रहा था. हर 21 दिन में इंजेक्शन लगवाने आते थे. आज भी युवती अच्छी हालत में अस्पताल इंजेक्शन लगवाने आयी और पूछते ही कंपाउंडर ने उसे इंजेक्शन लगा दिया. जब युवती की तुरन्त तबियत बिगड़ी और बॉडी नीली पड़ने लगी तो कंपाउंडर तुरन्त अस्पताल से फरार हो गया. फिर सभी डॉक्टर आकर युवती को अलग-अलग इंज्रक्शन लगाने लगे और ऑक्सीजन लगा दिया. फिर 10 मिनट बाद डॉक्टरों ने बताया कि लड़की की मौत हो गयी है.

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के आह्वान पर मरीज़ों का इलाज बंद :

तोड़फोड़ के बाद नाराज रायपुर के निजी अस्पताल के डॉक्टरों ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के आह्वान पर मरीज़ों का इलाज बंद करने का फैसला लिया है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के तमाम सदस्य आज़ाद चौक थाना पहुंचे हुए है और हॉस्पिटल में हुए तोड़फोड़ का विरोध कर कार्रवाई करने की माँग की है. वहीं मृतक के परिजन भी थाना पहुंचे हुए है. डॉक्टर और मृतक के परिजनों के बीच बातचीत की जा रही है. डॉक्टरों का कहना है कि युवती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी. लेकिन अस्पताल में तोड़फोड़ करना अपराध है. आक्रोशित होकर इस तरह का कदम नहीं उठाना चाहिए.