भूपेश बघेल का जनता से आव्हान, हरेली को नई पीढ़ी के लिए छत्तीसगढ़ की संस्कृति की पहचान बनाना है | VIDEO

रायपुर:

छत्तीसगढ़ के बड़े त्यौहार हरेली पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश वासियों को बधाई दी है. मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी भाषा में प्रदेश वासियों के नाम संदेश ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने प्रदेश की संस्कृति और परंपराओं को बचाने के लिए यह पारंपरिक त्यौहार धूमधाम से मनाने का आह्वान किया है. सीएम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की कृषि संस्कृति के अनुसार हरेली पहला त्यौहार है. गांव और ग्रामीणों की जिंदगी में खेती किसानी का स्थान मां के जैसे होती है, खेती मां के जैसे ही हमारा भरण पोषण करती है. सावन के अमावस का यह त्यौहार जन-जन की जिंदगी से जुड़ा हुआ है.

भूपेश बघेल ने आम जनता से अपील करते हुए कहा कि भाईयो-बहनों और सभी बुजुर्गों से मैं विनती करता हूं कि आईये एक नई शुरुआत करते हैं और हरेली को हम अपने लिए और नई पीढ़ी के लिए छत्तीसगढ़ की संस्कृति की पहचान बनाना है. हमारे छत्तीसगढ़ में नरवा गरुवा घुरुवा और बाड़ी योजना शुरु करे हैं. इसका उद्देश्य है यह है कि मेरा विश्वास है कि यह योजना छत्तीसगढ़ के चारों चिन्हारी को फिर से जीवन देगी और हम सबके सपना को साकार करेगी.