2000 किलोमीटर वाली मर्डर मिस्ट्री सुलझी, नासिक में बनाया प्लान, कोलकाता में की हत्या, झारखंड में फेंक दिया शव

जामताड़ा: झारखंड के जामताड़ा में अवैध संबंध में एक हत्या का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि एक ट्रक खलासी की पत्नी के अवैध संबंध ड्राइवर से हो गए थे। जिसके चलते खलासी ने इस हत्याकांड को अंजाम दिया। आरोपी ने हत्या का प्लान नासिक में बनाया कोलकाता में इसे अंजाम दिया और झारखंड में शव को फेंका गया। मृतक ड्राइवर बिहार के बांका जिले का रहने वाला था।

पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि खलासी ने ट्रक ड्राइवर की हत्या कोलकाता के चमरेल पार्किंग में की थी। इसके बाद लाश को ठिकाने पर लगाने के लिए वो ट्रक लेकर इधर- उधर घूमता रहा। इस दौरान लाश से बदबू आने लगी फिर उसने झारखंड के रास्ते जामताड़ा में सड़क किनारे शव को फेंक दिया और फरार हो गया।

इसके बाद कुछ ग्रामीणों ने लाश को सड़क पर पड़ा देख इसकी सूचना पुलिस को दी। लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा और मृतक के बार में खोजबीन शुरू कर दी। पुलिस को कुछ दिन बाद कामयाबी मिली और मृतक की पहचान विजय कुमार उर्फ आकाश यादव के रूप में हुई जो बिहार के बांका जिले के भेलवा गांव का रहने वाला था।

ग्रामीणों ने अज्ञात लाश को सड़क किनारे पाकर पुलिस को इसकी सूचना दी तो पुलिस ने लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया और इसकी खोजबीन शुरू कर दी। पुलिस जांच के क्रम में मृतक की पहचान विजय कुमार साव उर्फ आकाश यादव के रूप में भी जो बिहार के बांका जिले के भेलवा गांव का रहने वाला था। वह ट्रक चलाकर अपना गुजर-बसर करता था जिसका एक महिला से अवैध संबंध था।

शव का अंतिम संस्कार कराने के बाद पुलिस हत्यारे की तलाश में जुट गई। इस मामले को सुलझाने के लिए एसपी दीपक सिन्हा ने थाना प्रभारी सह इंस्पेक्टर संजय कुमार के नेतृत्व में पुअनि नागेश्वर साव, दीपक साव, अनिल कुमार, सअनि लव कुमार समेत संतोष और रोहित को शामिल कर जांच टीम का गठन किया। पुलिस के लिए शव की शिनाख्त न हो पाना चुनौती बना हुआ था।

इसी बीच इंस्पेक्टर संजय ने शव की तस्वीर मुख्यालय समेत जगहों पर भेजी। धनबाद के एक सोशल मीडिया वॉट्सएप ग्रुप को भी तस्वीर भेजी गई। ग्रुप में तस्वीर वायरल होने के बाद मृतक के परिजन ने आकाश उर्फ विजय की पहचान हुई और मिहिजाम थाना को फोन किया गया। वहां से जामताड़ा थाना की पुलिस को जानकारी मिलने पर जांच टीम और सक्रिय हुई और बांका से परिजनों को बुलाया गया।

फोटो देखकर परिजनों ने मृतक की पहचान की और डब्ल्यूबी 23 डी 6075 नंबर ट्रक का चालक विजय और सह चालक रवींद्र यादव के बारे में जानकारी दी। सर्विलांस की मदद से पता चला कि रवींद्र अपने साढू लाल बाबू यादव के घर यूपी बलिया के कारो गांव में छुपा है। पुलिस ने रवींद्र यादव को गिरफ्तार किया और उनकी निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल किया गया टायर लिवर रॉड बरामद किया।

पुलिस ने बताया कि मृतक ड्राइवर के संबंध खलासी रविंद्र यादव की पत्नी से हो गए थे। जब इसकी जानकारी रविंद्र को मिली तो उसने अपनी पत्नी को काफी समझाया लेकिन उसकी पत्नी नहीं मानी और दोनों मिलते रहे। फिर आरोपी रविंद्र यादव ने हत्या की साजिश रच डाली।

फिर एक दिन ड्राइवर और खलासी जब ट्रक लेकर नासिक से कोलकाता पहुंचे तो मौका पाकर ड्राइवर विजय कुमार की टायर लीवर से मारकर रविंद्र यादव ने हत्या कर दी। शव को जामताड़ा के सतसाल के पास फेंक दिया।

इस मामले पर जामताड़ा एसपी दीपक कुमार सिन्हा ने बताया कि खलासी की गिरफ्तारी के अलावा हत्या में इस्तेमाल किया गया टायर लीवर और मोबाइल फोन एवं खून के धब्बे लगे ट्रक के सीट कवर पर मिले उन्हें जब्त कर लिया है। पुलिस आगे की कानूनी कार्रवाई कर रही है। एसपी ने बताया कि चालक विजय की हत्या रवींद्र ने ट्रक पर ही पांच जून को कर दी थी।

  • Mats Advt