पिता की हत्या करने के बाद पूरे रात कमरे में रखा था शव, जब सारा खून निकल गया तब टुकड़े-टुकड़े किया

नई दिल्ली : अपराधी कितना भी शातिर हो, मगर कुछ सुराग छोड़ ही जाता है। ऐसा ही बेटे दीपक के साथ पति की हत्या कर शव के 10 टुकड़े करने वाली पूनम देवी के साथ हुआ है। पूनम ने अंजन दास की हत्या करने के बाद मोबाइल नंबर को पोर्ट करा लिया था। यही वह सुराग था जिससे पुलिस ने पांडव नगर में मानव शरीर के अंग मिलने की गुत्थी से पर्दा उठा दिया। पूनम ने अपना नंबर एयरटेल से जियो में पोर्ट करा लिया था। अपराध शाखा के पुलिस अधिकारियों के अनुसार जब नंबर पोर्ट करवाने के बाद मोबाइल कुछ दिन के लिए बंद आता है।

दूसरा मोबाइल पर बात करते हुए दीपक सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गया था। हालांकि, दीपक मोबाइल पर बात नहीं कर रहा था बल्कि लोगों को गुमराह करने के लिए मोबाइल को कान पर लगा लिया था।

ऐसे में पुलिस ने इलाके का डंप डाटा उठाया और देखा कि उस समय कितने फोन चल रहे थे और कितने वारदात के बाद बंद हो गए। पुलिस ने एक लाख फोनों का डंप डाटा उठाया। डंप डाटा खंगालने के दौरान पुलिस को पता लगा कि पूनम देवी व अंजन दास के मोबाइल फोन उसी समय से बंद आ रहे हैं।

आरोपियों ने अंजन दास के मोबाइल सिम को तोड़कर फेंक दिया था। ये उसके मोबाइल हैंडसेट को चला रहे थे। डंप डाटा की डिटेल खंगालते हुए पूनम का नंबर बंद मिला और पुलिस पूछताछ करते हुए पूनम तक पहुंच गई।

स्थानीय लोगों ने सीसीटीवी कैमरों में कैद महिला की पहचान भी पूनम के रूप में की थी। शुरू में तो इन्होंने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की और कहा कि अंजन दास बिहार गया है।

पुलिस को जब वारदात के समय पहने कपड़े मिल गए तो आरोपियों ने गुनाह कबूल कर लिया। इसके बाद इन्होंने पूरी घटना से पर्दा उठा दिया।

कपड़े मिले तो कबूला गुनाह
पुलिस ने बताया कि उनको जब अंजनदास की हत्या की वारदात के समय में पहने कपड़े मिल गए तो पूनम व दीपक ने गुनाह कबूल कर लिया। इसके बाद इन्होंने पूरी घटना से पर्दा उठा दिया।

30 मई की रात: ऐसे लगाया ठिकाने
पुलिस के अनुसार, अंजनदास की हत्या 30 मई की रात को हुई थी। इसके बाद पूनम ने बेटे दीपक के साथ मिलकर पूरी रात शव कमरे में रखा, ताकि सारा खून निकल जाए। अगले दिन चाकू से शव के टुकड़े किए, फिर प्लास्टिक की थैलियों में शव के टुकड़े भरे और कुछ दिन तक अलग-अलग स्थानों पर फेंका। उसकी हत्या किस हथियार से हुई, वो अब तक पुलिस को नहीं मिला है।

पड़ोसियों से कहते थे कि अंजन दास बिहार गया हुआ है
पुलिस अधिकारियों के अनुसार अंजन दास अचानक गायब हो गया तो पड़ोसियों को संदेह हुआ था। पड़ोसियों ने दीपक व पूनम से कई बार पूछा था कि अंजन दास कहां है। इस पर वे कहते थे कि वह बिहार अपने बच्चों के पास गया है।

बिहार में अंजन दास की पत्नी, सात बेटियां व एक बेटा रहता है। पुलिस उसके परिजनों को दिल्ली बुला रही है। उसके परिजनों के डीएनए से पांडव नगर में मिले मानव शरीर के टुकड़ों के डीएनए से मिलान करवाया जाएगा।