RAIPUR | अब सही मोबाइल नंबर बताने पर ही खरीद सकेंगे गाड़ी, ओटीपी बताने पर डीलर सौंपेगा चाबी

रायपुर: छत्‍तीसगढ़ में वाहन खरीदने के संबंध में कुछ नए नियम बनाए गए हैं, जिनका पालन किए बिना गाड़ी खरीदना मुमकिन नहीं होगा। इसके मुताबिक अब गलत मोबाइल नंबर से दोपहिया, चारपहिया या फिर भारी वाहन खरीदी के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं करवा पाएंगे।

प्रदेश में परिवहन विभाग द्वारा एक नई व्यवस्था शुरू की गई है जिसके तहत अब वाहन खरीदने वाले को अपना सही मोबाइल नंबर देना जरूरी होगा। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसी नंबर पर एक ओटीपी आएगा जिसके डीलर को देने के बाद ही बात आगे बढ़ सकेगी

ओटीपी के बिना रजिस्‍ट्रेशन नामुमकिन
इतना ही नहीं परिवहन विभाग द्वारा रजिस्ट्रेशन शुल्क जमा होने से लेकर नंबर प्लेट निकलने की भी जानकारी उसी नंबर पर दी जाएगी। साथ ही स्पीड पोस्ट के लिए संदेश भी उसी नंबर पर जारी किया जाएगा ताकि वाहन खरीदने वाले को रजिस्ट्रेशन शुल्क जमा होने से लेकर इसका नंबर और नंबर प्लेट निकलने की भी जानकारी मिलेगी।

जबकि गलत मोबाइल नंबर देने पर न तो मोबाइल पर ओटीपी आएगा और न ही रजिस्ट्रेशन हो पाएगा। यह कदम उठाए जाने को लेकर परिवहन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि कई बार डीलर्स फर्जीवाड़ा करते हुए अपने ही कर्मचारियों के नंबर डालकर रजिस्ट्रेशन किया करते थे।

इसे देखते हुए वाहन के असली मालिक की जानकारी अपडेट करने के लिए यह व्यवस्था शुक्रवार से प्रदेश भर के लिए लागू की गई है।

मालिक की सही जानकारी के लिए की गई व्‍यवस्‍था
छत्‍तीसगढ़ में यह व्यवस्था गाड़‍ियों के असली मालिक की सटीक जानकारी अपडेट रखने के लिए लागू की गई है। इसकी मदद से मालिक के सही मोबाइल नंबर को अपडेट किया जा सकेगा। जबकि घर के पते पर आरसी भेजने की सुविधा पहले ही लागू की जा चुकी है, ताकि वाहन स्वामी के पते की भी जांच हो सके।

ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर सीधे मोबाइल पर ही चालान
प्रदेश के कई शहरों में अब आईटीएमएस (इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम) शुरू किया जा रहा है। वहीं, राजधानी में तो इसकी शुरूआत दो से तीन वर्ष पहले ही हो चुकी है। इसमें ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर लोगों को मोबाइल पर ही ई चालान भेजा जा रहा है। ऐसे में इस नई व्यवस्था के तहत ट्रैफिक के नियम तोड़ने वालों पर भी नकेल कसी जा सकेगी।

एपाइंटमेंट लेकर कैंसिल करवा रहे हैं बुकिंग
परिवहन विभाग के अफसरों के अनुसार कई बार एजेंट्स की वजह से उन्हें परेशान होना पड़ता है, जिसमें फिटनेस के मामले सबसे ज्यादा हैं। एजेंट्स इसके लिए पहले बुकिंग कर एपाइंटमेंट तो ले लेते हैं, लेकिन समय पर नहीं आकर इसे कैंसिल कर देते हैं। ऐसे में सटीक मोबाइल नंबर होने पर उक्त व्यक्ति स्वयं उपस्थित होगा और परेशानी नहीं होगी।