बृजमोहन के करीबी ‘गफ्फू मेमन’ बने गरियाबंद पालिका अध्यक्ष – कांग्रेस के देवा मरकाम को 3 मतों से किया परास्त

गरियाबंद नगर पालिका में  प्रदेश के कद्दावर नेता बृजमोहन अग्रवाल के खास समर्थक गफ्फु मेमन नगर पालिका के नए अध्यक्ष चुने गए है। इसके साथ ही भजपा मन्डल अध्यक्ष सुरेन्द्र सोनटेके नगर पालिका के उपाध्यक्ष चुने गए। मतदान में भाजपा के गफ्फू मेमन ने जहां 9 मत प्राप्त किए वहीं कांग्रेस के देवा मरकाम ने मात्र 6 मत प्राप्त किए इस तरह गाफ्फू मेमन 3 मतों से विजय हुए इस तरह बीते 20 दिनों से चले आ रहे नगर पालिका के चुनाव का कशमकश समाप्त हुआ और भाजपा ने अपना परचम गरियाबंद नगर पालिका पर फहराया

फारुक मेमन

गरियाबंद : सुबह से ही पालिका अध्यक्ष के चुनाव को लेकर गहमागहमी रही।  जिला मुख्यालय में नगर पालिका होने के नाते के लोगो को संभावित परिणाम को लेकर काफी उत्सुकता बनी थी। जैसे ही भाजपा प्रत्याशी गफ्फु मेमन एवं उपाध्यक्ष प्रत्याशी सुरेन्द्र सोनटेके के चुने जाने की घोषणा पीठासीन अधिकारी द्वारा की गई तो नगर वासियो मे खुशी की लहर दौड़ गई।  जैसे ही गफ्फु मेमन सहित अन्य पार्षद बाहर निकले तो नगर नागरिकों ने फुलमाला से जोशीला स्वागत किया। और नए अध्यक्ष उपाध्यक्ष को जीत की बधाई दी। कुछ देर में ही चुनाव स्थल में बड़ी संख्या में लोगो की भीड़ जुट गई। सभी बधाई देने वाले शुभचिंतको का नवनिर्वाचित अध्यक्ष गफ्फु मेमन, उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सोनटेके और सभी पार्षदो ने साथ मिलकर अभिवादन किया और फिर अपने वार्ड के लोगो का आभार व्यक्त करने रैली के रूप मे निकले इस रैली का जगह-जगह बाजे गाजे पटाखे वह फूल मालाओं से नगर वासियों ने स्वागत किया

भाजपा के पक्ष में नौ, कांग्रेस के पक्ष में छह मत मिले

पीठासीन अधिकारी अपर कलेक्टर केके बेहार के समक्ष दोनो पदो के लिए चुनाव कराया गया। भाजपा नेे अध्यक्ष पद के अधिकृत प्रत्याशी गफ्फु मेमन तथा कांग्रेस ने  देवा मरकाम को अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित किया था। वही उपाध्यक्ष पद के लिए भाजपा से सुरेन्द्र सोनटेके तथा कांग्रेस से प्रतिमा पटेल दावेदार थी। मतदान के बाद भाजपा ने दोनो पदो में 9-6 कें अंतर से अपना कब्जा जमा लिया। भाजपा के पास खुद के सात पार्षदो के अलावा जोगी कांग्रेस के दो पार्षदो का समर्थन था। जिसमें जोगी कांग्रेस के दो मतों ने निर्णायक भूमिका निभाते हुए भाजपा को जीत दिला दी  जोगी कांग्रेस के बिना भाजपा की जीत कतई संभव नहीं हो सकता था जिसके लिए  सनी मेमन के प्रयासों से अजीत जोगी ने भी उन्हें समर्थन देने का लिखित निर्देश दिया था और अंततः सनी मेमन की रणनीति काम आई और गप्पू मेमन भाजपा के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित हुए चुनाव में यही निर्णायक साबित हुआ। भाजपा के पक्ष में पार्षद गफ्फु मेमन, रिखीराम यादव, आसिफ मेमन, विष्णु मरकाम, सुरेन्द्र्र सोनटेके, गुलेश्वरी टिंकू ठाकुर, वंश गोपाल तथा जोगी कांगे्रस के नीतू देवदास और षश्री मति यादव का मत पडा। वही कांग्रेस के पक्ष में रितिक सिन्हा, संदीप सरकार, प्रतिभा पटेल, विमला साहू, ज्योति साहनी, देवा मरकाम का मत पड़ा।

नहीं आई काम कांग्रेस की रणनीति,  भाजपा के रूठो को मना लिया गया

पार्षद चुनाव संपन्न होने के बाद अध्यक्ष पद के लिए जबर्दस्त चुनावी माहौल देखने को मिला। भाजपा के पार्षदो की बागी होने की सुचना मिलते ही कांग्रेस भी पालिका की सत्ता हासिल करने रणनीति बनाने में जुट गई थी। जिसके चलते अध्यक्ष पद को लेकर कुछ समय के लिए असमजस्य की स्थिति भी उभर आई थी परंतु तमाम अटकलो में सोमवार को विराम लग गया। भाजपा के बागी देवा मरकाम के साथ कांग्रेस को छ मत मिले। इसमे पांच कांग्रेस के निर्वाचित पार्षदो के ही मत थे। दूसरी ओर भाजपा को भी अपने पूरे सात पार्षदो का पूरा समर्थन मिला। भीतरघात और उलटफेर की स्थिति कही भी देखने को नहीं मिली  

नगर पालिका चुनाव में जनता ने भाजपा पर विश्वास जताते हुए अपना समर्थन दिया। जिसके चलते पालिका में भाजपा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष चुने गए है। भाजपा के नेतृत्व में गरियाबंद का चहुमुखी विकास होगा। 
चन्द्रशेखर साहू पूर्व मंत्री