BIJAPUR | जानिए कौन है नक्सली हमले मास्टमाइंड हिडमा, पुलिस ने 25 लाख रूपये का रखा है इनाम, कई बड़ी नक्सल वारदातों को दिया है अंजाम, स्कूल नहीं गया पर बोलता है फर्राटेदार अंग्रेजी

बीजापुर: शनिवार को नक्सलियों और जवानों के बीच हुए मुठभेड़ में 23 जवान शहीद हो गए हैं। इस पूरे ऑपरेशन को पिपुल्स लिब्रेशन गोरिल्ला आर्मी ने किया, जिसका कमांडर हिडमा है। जवानों को खबर मिली थी कि हिडमा सुकमा के जोनागुडा, टेकलगुड़ुम और जीरागांव में देखा गया है, जिसके बाद जवान उसे पकड़ने के लिए मिशन पर निकले थे। पर अत्याधुनिक हथियारों से लैस हिडमा और नक्सलियों ने तबातोड़ फायरिंग कर 22 जवानों को मार डाला। पुलिस ने दावा किया है कि इस मुठभेड़ में 12 से अधिक नक्सली भी मारे गए हैं।

आपको बता दें कि हिडमा दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी का लीडर है। चार साल पहले सुकमा में चलाए गए ऑपरेशन में वह गोली से घायल हो गया था लेकिन बच गया। पुलिस ने उस पर 25 लाख रूपये का इनाम रखा है। वह एकलौता ऐसा लीडर है जो मूलतः बस्तर का रहने वाला है और सबसे खूंखार बटालियन का सरगना है।

हिडमा इससे पहले भी कई बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुका है। सुकमा के ही भेज्जी में हुए मुठभेड़ में सीआरपीएफ के 12 जवान शहीद हुए थे। उसके पीछे हिडमा का ही हाथ था। इसके अलावा 2013 में झीरम घाटी में हुए कांग्रेसी नेताओं के हमले में भी हिडमा शामिल था। इसमें वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं समेत 30 लोगों की हत्या की गयी थी। 2010 में चिंतलनार के करीब ताड़मेटला में सीआरपीएफ के 76 जवानों की शहादत का इल्जाम हिडमा पर लगा है।

हिडमा का पूरा नाम मांडवी हिडमा उर्फ इदमुल पोडियाम भीमा है। वह जगरगुंड़ा के गांव पुड़अती का रहने वाला है। वह कभी स्कूल नहीं गया लेकिन फर्राटेदार अंग्रेजी बोलता है और कम्प्यूटर का जानकार है। दो शादियां करने वाले हिडमा को गुरिल्ला वार करने में महारत हासिल है। हिडमा की पत्नियां भी नक्सल गतिविधियों में शामिल हैं। हिडमां के भाई मांडवी देवा और मांडवी दुल्ला गांव में ही खेती करते हैं, वहीं तीसरा भाई नंदा गांव में नक्सलियों को पढ़ता है। उसकी बहन भीमे दोरनापाल में रहती है। डेटाबेस के हिडमा अनुसार उसकी उम्र अभी करीब 51 साल होगी।

ये भी पढ़ें :-   KORIYA | दो सड़क हादसे में 4 लोगों की मौत, तेज रफतार कार होटल की दीवार से टकरायी, वहीं पिकअप ने बाइक सवार को मारी टक्कर

हिडमा का फोर्स गांववालों को डराने का काम करता है। वह उनकी हत्या करने और लूटने से भी पीछे नहीं हटता। अधिकारियों का कहना है कि यदि बस्तर से नक्सल समस्या खत्म करना है तो हिडमा के बटालियन के खिलाफ बड़ी कार्रवाई जरूरी है।