RAIPUR | विधायक की शिकायत भी नहीं रोक पाई ‘नो-एंट्री’ में भारी वाहनों का आना जाना, पंडरी के प्रतिबंधित क्षेत्र में बेखौफ दौड़ रहे भारी वाहन

रसूखदारों के सामने यातायात पुलिस महकमा फेल

रायपुर: शहर के सबसे व्यस्त इलाकों में सुमार पंडरी बस स्टैण्ड का क्षेत्र, जहां कुछ कारोबारियों के द्वारा सड़क नियमों की सरेेआम धज्जियां उडाते देखा जा सकता है। यहां पर कारोबारी रसूखदारों का वर्चस्व इतना है कि उनकी भारी गाड़ियों को नो-एंट्री के वक्त भी एंट्री मिल जाती है। नियमों को ताक पर रखना साथ ही इससे राहगीरों की जान से खिलवाड़ भी हो रहा है।

क्या है नियम..

कलेक्टर के आदेश के मुताबिक शहर के अंदर सुबह 5 बजे से लेकर रात 12 बजे तक बड़ी भारी और मालवाहक गाड़ियों की एंट्री नहीं होगी।
यानी पंडरी बस स्टैंड भी इस निर्धारित समय में नो एंट्री जोन है। फिर भी तेलीबांधा इलाके से पंडरी बस स्टैंड तक पार्सल गाड़ियों को भेजने का खेल चल रहा है।

मामले में विधायक ने एसएसपी को लिखा पत्र

नो एंट्री में गाड़ियों की लोडिंग और अनलोडिंग की शिकायत मिलने पर विधायक कुलदीप सिंह जुनेजा ने मामले को संज्ञान में लेते हुए रायपुर एसएसपी को पत्र लिखकर मामले में कार्यवाही करने के लिए कहा है।


यातायात महासंघ ने भी की है शिकायत


उक्त मामले में यातायात महासंघ रायपुर ने भी कलेक्टर को पत्र के माध्यम से शिकायत दर्ज करवाई है। महासंघ के सदस्यों का कहना है कि नो एंट्री में भारी वाहनों का प्रवेश नही होना चाहिए। ऐसा करने वाले व्यपारियों पर तत्काल कारवाही की जानी चाहिए।

उन्होंने प्रशासन को सुझाव दिया है कि पंडरी बस स्टैंड के दोनों मुख्य मार्गों पर 10 फ़ीट के बैरिकेट्स लगा दिए जाएं ताकि बड़े और भारी वाहन प्रवेश न कर पाएं।

महाराष्ट्र पासिंग की है गाड़ियां

पुलिस सूत्रों के अनुसार जिन गाड़ियों को नो एंट्री में शहर के अंदर आने की इजाजत मिल रही है वे सभी गाड़ियां महाराष्ट्र पासिंग की है। गाड़ियों को पंडरी लाकर सामान खाली किया जाता है और फिर नो एंट्री के समय ही शहर से वापस भी निकाला जाता है।