पुलिस ने रोका तो पैदल चल दारापुरी के घर तक पहुंचीं प्रियंका गांधी :- देखिये विडियो

कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं पूर्व आईपीएस एस.आर. दारापुरी से मिलने जा रही थी. इसी दौरान रास्ते में पुलिस की गाड़ी आई और मेरी गाड़ी के आगे लगा दी. उन्होंने कहा कि आप आगे नहीं जा सकते हैं, फिर मैं पैदल गई.

लखनऊ: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन जारी है. इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी आज लखनऊ पहुंची. जहां कार्यकर्ताओं से पार्टी ऑफिस में मुलाकात के बाद भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व अधिकारी एसआर दारापुरी के परिवार से मिलने के लिए पहुंची. इस दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस के कर्मियों ने उनकी गाड़ी को रोकने की कोशिश की. गाड़ी रोके जाने के बाद पैदल ही दारापुरी के घर तक पहुंची. उन्होंने दारापुरी के परिजनों से मुलाकात की. नागरिकता कानून के खिलाफ हाल में हुई हिंसा के मामले में दारापुरी को गिरफ्तार किया गया है.

परिजनों से मुलाकात के बाद प्रियंका गांधी ने दावा किया, ”रास्ते में पुलिस की गाड़ी आई और मेरी गाड़ी के आगे रोक दी. उन्होंने कहा कि आप आगे नहीं जा सकते हैं. उन्हें मालूम भी नहीं था कि मैं कहां जा रही हूं. मैं गाड़ी से उतर गई और मैं पैदल गई. इसी दौरान मेरा गला पकड़कर रोकने की कोशिश की. मैं गिर गई. फिर मैं टू व्हीलर पर बैठकर आगे बढ़ी. फिर उन्होंने रोका और मैं पैदल गई. मैंने दारापुरी के परिजन से मुलाकात की.” उन्होंने कहा कि मैं कोई मार्च नहीं कर रही थी. सिर्फ कुछ नेता मेरे साथ थे. प्रियंका ने कहा, ”मैं गाड़ी में शांतिपूर्वक जा रही थी, तब कानून-व्यवस्था कैसे बिगड़ने वाली थी? मैंने किसी को बताया तक नहीं ताकि मेरे साथ तीन से ज्यादा लोग नहीं आयें. मुझे रोका गया तभी मैं पैदल चली. इनके पास मुझे रोकने का हक नहीं है. अगर गिरफ्तार करना चाहते हैं तो करें.” इस सवाल पर कि क्या सरकार को लगता है कि उनकी वजह से उनकी राजनीति को खतरा है, प्रियंका ने कहा, ”सबकी राजनीति को खतरा है.”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक सिंह ने बताया कि रास्ते में लोहिया चौराहे के पास पुलिस ने प्रियंका के वाहन को रोक दिया. जब उन्होंने इसका विरोध किया और पूछा कि आखिर उन्हें क्यों रोका जा रहा है. उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह मेरी सुरक्षा का नहीं बल्कि योगी की पुलिस का मुद्दा है.

इस दौरान हलकान हुई पुलिस और पार्टी नेताओं के बीच अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया और कुछ देर तक तो पता ही नहीं चला कि प्रियंका कहां गयीं. बाद में मालूम हुआ कि वह दारापुरी के घर पहुंच गयीं हैं और इसके लिए उन्होंने करीब तीन किलोमीटर पैदल सफर किया.