AP Strain : मौजूदा वायरस से कितना ज्यादा और क्यों है खतरनाक ? जानिए यहाँ

corona new variant

नई दिल्ली: कोरोना की दूसरी लहर के बीच आंध्र प्रदेश से परेशानी बढ़ाने वाली खबर है। यहां वायरस का नया स्ट्रेन मिला है। इसे AP Strain और N440K नाम दिया गया है। सेंटर फॉर सेल्यूलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (CCMB) के वैज्ञानिकों का दावा है कि भारत में मौजूदा स्ट्रेन के मुकाबले नया वैरिएंट 15 गुना ज्यादा खतरनाक है। 3-4 दिन में ही ऑक्सीजन लेवल पर बुरा असर डालता है।

दक्षिण भारत में अब तक कोरोना के 5 वैरिएंट मिल चुके हैं। इनमें AP Strain आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना में काफी तेजी से फैल रहा है। इसका असर महाराष्ट्र में भी देखा जा रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक अगर समय रहते इसकी चेन को तोड़ा नहीं गया तो कोरोना की ये दूसरी लहर और भी ज्यादा भयावह हो सकती है, क्योंकि ये मौजूदा स्ट्रेन B.1617 और B.117 से कहीं ज्यादा खतरनाक है।

क्यों है मौजूदा स्ट्रेन से ज्यादा खतरनाक

नए वैरिएंट से संक्रमित होने वाले मरीज 3-4 दिनों में ही हाइपोक्सिया या डिस्पनिया के शिकार हो जाते हैं। इस स्थिति में सांस मरीज के फेफड़े तक पहुंचना बंद हो जाती है। सही समय पर इलाज और ऑक्सीजन सपोर्ट नहीं मिलने पर मरीज की मौत हो जाती है। भारत में इन दिनों इसी के चलते ज्यादातर मरीजों की मौत हो रही है।

संक्रमण की रफ्तार भी बहुत तेज

वायरस की बढ़ी हुई ताकत की पुष्टि करते हुए डिस्ट्रिक्ट कोविड स्पेशल ऑफिसर और आंध्र मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल पी.वी. सुधाकर ने कहा कि हमने देखा है कि नए वैरिएंट का इंक्यूबेशन पीरियड बहुत कम और संक्रमण की रफ्तार बहुत ज्यादा है। पहले वायरस से संक्रमित मरीज को हाइपोक्सिया या डिस्पनिया स्टेज तक पहुंचने में कम से कम एक सप्ताह लगता था। अब मरीज तीन या चार दिनों में ही गंभीर स्थिति में पहुंच रहे हैं। इसीलिए ऑक्सीजन, बेड या ICU बेड की जरूरत बहुत बढ़ गई है।

डॉ. सुधाकर ने बताया कि यह स्ट्रेन युवा आबादी यहां तक कि बच्चों को भी बड़े पैमाने पर प्रभावित कर रहा है। उन्हें भी जो अपनी फिटनेस के लिए बहुत जागरूक हैं या जिनकी इम्यूनिटी बहुत मजबूत है। GITAM इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च की सीनियर माइक्रोबायोलॉजिस्ट हेमा प्रकाश ने बताया कि इससे बचे रहने का सबसे कारगर तरीका है कि अच्छा मास्क पहना जाए, भीड़ से दूर रहें, हाथों को लगातार से साफ करते रहें और जहां तक संभव हो सके घर में रहें।

कुरनूल में हुई पहचान, इसके बाद तेजी से फैला

‘द हिंदू’ की रिपोर्ट के मुताबिक, यह वायरस आंध्र प्रदेश की राजधानी विशाखापट्टनम समेत दूसरे हिस्सों में फैल रहा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि सबसे पहले इस स्ट्रेन की पहचान आंध्र प्रदेश के कुरनूल में हुई थी। ये आम लोगों के बीच काफी तेजी से फैला है। सबसे चिंता की बात ये है कि यह वैरिएंट अच्छी इम्यूनिटी वाले लोगों को भी चपेट में ले रहा है। इस स्ट्रेन के कारण लोगों के शरीर में साइटोकाइन स्टॉर्म की समस्या आती है।

विशाखापट्टनम के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर वी विनय चंद ने बताया कि हम अब भी नए स्ट्रेन के बारे में पता लगा रहे हैं। इसके सैंपल एनालिसिस के लिए CCMB भेजे गए हैं। एक बात तय है कि पिछले साल आई पहली लहर के दौरान हमने जो वैरिएंट देखा था, यह उससे काफी अलग है।